bankebihariji.at.ua - shyam radhe koi na kehta kehte radhe shyam

श्य़ामराधे कोई ना कहता, कहते राधेशय़ाम  



श्य़ामराधे कोई ना कहता,

 कहते राधेश्य़ाम

जन्म जन्म के भाग जगा दे,

 ईक राधा का नाम ।

राधा के बिना श्य़ाम है आधा,

 कहते राधेश्य़ाम ।

बोलो राधे-राधे राधे-राधे

राधे-राधे श्य़ाम ।।

 


वर्य़्थ पड़ा माला बिन मोती,

वर्य़्थ बिना दीपक के ज्य़ोति

चंदा बिना चाँदनी कैसी,

सूरज बिना धूप ना होती ।

बिन राधा के कहाँ है पूरा,

नटनागर का नाम

बोलो राधे-राधे राधे-राधे

राधे-राधे श्य़ाम ।।

 


साथ है जैसे जल की धारा

साथ है जैसे नदी किनारा

साथ है जैसे नील गगन के

सूरज चंदा तारा तारा ।

वैसे इनके बिना अधूरा,

मन वृंदावन धाम ।

बोलो राधे-राधे राधे-राधे

राधे-राधे श्य़ाम ।।

 


श्री राधा को जिसने भुलाय़ा

उसने अपना जनम गंवाय़ा

धन्य हुई वो वाणी जिसने

राधाश्य़ाम  है गाया ।

उनका सुमिरन करे बिना

कब मिलता है विश्राम ।

बोलो राधे-राधे राधे-राधे

राधे-राधे श्य़ाम ।।

Pnyxe Comment Widget